मुझे रास आई न दुनिया तुम्हारी

15-10-2020

मुझे रास आई न दुनिया तुम्हारी

निज़ाम-फतेहपुरी

ग़ज़ल- 122 122 122 122
अरकान- फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन


 मुझे रास आई न दुनिया तुम्हारी
परेशाँ  तुम्हारा  यहाँ  है  पुजारी
 
सुखी है वही जो ग़लत है जहाँ में
सही आदमी बन गया है भिखारी
 
दरिंदे हैं बे-ख़ौफ़ कितने यहाँ पर
सरेआम लुटती है बेबस ये नारी
 
जो सौ में सवा सौ कहे झूठ यारो
वही रहनुमा  बन  गया है मदारी
 
यही डर है सबको सही बोलने में
कहीं घट न जाए ये इज़्ज़त हमारी
 
बड़ा तो वही है जो चलता अकड़ कर
शरीफों का जीना जहाँ में है भारी
 
'निज़ाम' अब कहाँ जाए या रब बताओ
भरी है बुराई  से  दुनिया  ये सारी

– निज़ाम-फतेहपुरी

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
कविता-मुक्तक
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में