विचारधारा की रेल

15-12-2020

विचारधारा की रेल

जितेन्द्र 'कबीर'

वोट तन्त्र में जनता के
विचारों की रेल
कुछ को पहुँचाती है
राजगद्दी पर
और कुछ को पहुँचा
देती है सीधा जेल
इसीलिए तो . . .
उसकी दशा-दिशा बनाने
बिगाड़ने में लगे रहते हैं
रात-दिन चौबीस घंटा
राजनीतिक दलों के मीडिया,
सोशल मीडिया सेल
बड़े-बड़े कॉरपोरेट घरानों के साथ
मिलीभगत से चलता है विरोध
और समर्थन का यह खेल
बार-बार हज़ार बार झूठ को
जनता के आगे पेल-पेल
यह शातिर
हो जाते हैं कामयाब
लोगों की अपने ढंग से
सोचने विचारने की शक्ति को
करने में फ़ेल।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें