चुनाव जब आते हैं

01-04-2021

चुनाव जब आते हैं

जितेन्द्र 'कबीर'

चुनाव जब आते हैं तो
होड़ मच जाती है नेताओं में
मंदिर-मंदिर चक्कर लगाने की,
इक-दूजे से बढ़-चढ़कर
भक्त प्रचारित हो जाने की
और इसी भक्ति की आड़ में
अपने सारे पाप छिपाने की।
 
चुनाव जब आते हैं तो
होड़ मच जाती है नेताओं में
ग़रीबों के दर पर
झटपट से पहुँच जाने की,
इक-दूजे से बढ़-चढ़कर
उनका मसीहा प्रचारित हो जाने की
और इसी छवि की आड़ में
लहू उनका पीते जाने की।
 
चुनाव जब आते हैं तो
होड़ मच जाती है नेताओं में
तरक़्क़ी और ख़ुशहाली के सपने
जनता को दिखलाने की,
इक-दूजे से बढ़-चढ़कर
उनका सेवक प्रचारित हो जाने की
और इसी सेवा की आड़ में
हर बार उनको लूटते जाने की।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें