चिरयुवा

01-03-2021

यौवन रहा नहीं हमेशा
किसी का भी
इस नश्वर दुनिया में,
मगर तुम रहोगी 
चिरयौवना
मेरी कविता में,
क्योंकि शब्द कभी 
बूढ़े नहीं होते
उनमें बरक़रार रहती हैं
भावनाएँ
अपनी पूरी ताज़गी के साथ
सदियों-सदियों तक,
तब भी कोई अगर पढ़ेगा
मेरी कविता
तो देख पाएगा तुम्हें साक्षात्
उतनी ही सुन्दर, उतनी ही दिव्य,
जितनी कि तुम अभी हो।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें