आशा बर्मन

आशा बर्मन

आशा बर्मन

जन्म : कलकत्ता, बंगाल
शिक्षा एवं लेखन : आशा जी के पिता हिन्दी कवि थे और इनको कविता लिखने की प्रेरणा अपने पिताजी से ही मिली। आशा बर्मन का बचपन बंगाल में ही बीता और इन्होंने बी.ए.(आनर्स) भी वहीं से किया। आशा बर्मन का हिन्दी भाषा पर अच्छा अधिकार है और अपने विद्यार्थी जीवन से कविता लिखती रहीं हैं।
रचना कर्म : अपने पति, श्री अरुण बर्मन, के साथ कनाडा में बस जाने को बाद कुछ समय के लिए काव्य-सृजन रुक गया था, परंतु लगभग पुन: तीव्रगति से अब काव्य-सृजन रत हैं।
प्रकाशन : आशा बर्मन की रचनायें कनाडा की हिन्दी लिट्ररेरी सोसाइटी की पत्रिका ’हिन्दी संवाद’ और अमरीका की अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी समिति की पत्रिका ’विश्वा’, कनाडा की हिन्दी प्रचारिणी सभा की पत्रिका ’हिन्दी चेतना’ तथा अन्य पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं। इसके अतिरिक्त आशा बर्मन की कविताएँ ’कनेडियन हिन्दी काव्य-धारा’, ’काव्य किंजल्क’ तथा ’प्रवासी काव्य’ पुस्तकों में भी प्रकाशित हुई हैं।
"कही अनकही" काव्य संकलन, प्रकाशक हिन्दी राइटर्स गिल्ड (२०११)
विशेष: आशा बर्मन का कहना है कि आप मूलत: ’स्वान्त: सुखाय’ की भावना से ही लिखती हैं। आशा जी टोरोंटो क्षेत्र की एक प्रसिद्ध और कनाडा की एक श्रेष्ठ कविiयत्री हैं। स्थानीय कवि सम्मेलनों में बड़ी सराही जाती हैं