सारी दुनिया कर रही ज़ूम का व्यवहार,
ज़ूम द्वारा ही हो रहा संबंधों का विस्तार। 


संबंधों का विस्तार, भूले हम खाना पीना,
इसने ही किया संचालित, अपना जीना।


ज़ूम करते ही बीता जाता है दिन सारा,
व्यस्त हो गया है हर मानव बेचारा। 


सुबह है योगा क्लास, शाम कवि सम्मलेन,
दोपहर को संगीत-सभा का है आयोजन।  


पुरानी दिनचर्या का हुआ काम तमाम,
समयानुसार खाना पीना, सभी हुआ हराम।


कम्प्यूटर पर होती बच्चों की पढ़ाई,
दफ्तर के कार्य सभी इसीसे होते भाई। 


बदली जा रही है कार्य- प्रणाली सारी,
ऑनलाइन हो रही  सारी ख़रीदारी।


कम्प्यूटर के सामने बैठा सारा परिवार ,
ऐसा लगता यही हमारे जीवन का आधार।


इसकी महिमा से हम प्रभावित भैया,
यही हमें नचा रहा है ता-ता थैया। 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
गीत-नवगीत
व्यक्ति चित्र
हास्य-व्यंग्य कविता
स्मृति लेख
बच्चों के मुख से
पुस्तक समीक्षा
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में