उगाने होंगे अनगिन पेड़

01-05-2019

उगाने होंगे अनगिन पेड़

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

मत काटो तुम ये पेड़
हैं ये लज्जावसन
इस माँ वसुन्धरा के।
इस संहार के बाद
अशोक की तरह
सचमुच तुम बहुत पछाताओगे; 
बोलो फिर किसकी गोद में
सिर छिपाओगे? 
शीतल छाया
फिर कहाँ से पाओगे ? 
कहाँ से पाओगे फिर फल? 
कहाँ से मिलेगा? 
सस्य श्यामला को 
सींचने वाला जल? 
रेगिस्तानों में
तब्दील हो जाएँगे खेत
बरसेंगे कहाँ से 
उमड़-घुमड़कर बादल? 
थके हुए मुसाफ़िर
पाएँगे कहाँ से
श्रमहारी छाया? 
पेड़ों की हत्या करने से 
हरियाली के दुश्मनों को
कब सुख मिल पाया? 
यदि चाहते हो –
आसमान से कम बरसे आग
अधिक बरसें बादल, 
खेत न बनें मरुस्थल, 
ढकना होगा वसुधा का तन
तभी कम होगी
गाँव–नगर की तपन।
उगाने होंगे अनगिन पेड़
बचाने होंगे
दिन-रात कटते हरे-भरे वन।
तभी हर डाल फूलों से महकेगी
फलों से लदकर
नववधू की गर्दन की तरह
झुक जाएगी
नदियाँ खेतों को सींचेंगी
सोना बरसाएँगी
दाना चुगने की होड़ में
चिरैया चहकेगी
अम्बर में उड़कर
हरियाली के गीत गाएगी

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
गीत-नवगीत
लघुकथा
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो