सदा तिरंगा झण्डा प्यारा
ऊँचा इसे उठाएँगे हम।
चाहे जान हमारी जाए
इसको नहीं झुकाएँगे हम।
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो