थार का सैनिक

15-06-2020

थार का सैनिक

रामदयाल रोहज

थार का सैनिक है खेजड़ा
जब सूखे की मार से
सब हथियार डाल देते हैं
तब लू तप्ति को खाकर
अकेला डटा रहता है
मरुस्थान का महारथी
कौआ बढ़ाता है हौसला
अपनी बुलंद आवाज़ में
बार बार आती है लीलटांस
ज़रूरी संदेश लेकर
तभी आकाश गूँज उठता है
बादलों के विजय नगाड़ों से
गोड़ावण ख़ुशी में करते हैं ठुमके
ऊँट कर रहे हैं
वीर रस में यशोगान
संवाददाता गिद्ध चील सुना रहे हैं
आकाशवाणी से आँखों देखा हाल
थार का सैनिक बाँट रहा है
ताज़ा फल और पौष्टिक भोजन
भूखे मरु वासियों को
जगह जगह लगा दिए है
सेवार्थ शीतल हरे तंबू
घायल आम आदमी करते हैं विश्राम
संकट की घड़ियों
शिशु खग खेलते है कंधों पर
अपना सा प्यार पाकर

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें