आदमी और जानवर
हर एक प्राणी
लेता है साँस, लेकिन
इनके अलावा
ऐसा बहुत कुछ है
इस नाशवान दुनिया में..
जो साँस लेता है
दिल बनकर धड़कता है।
वह मकान..
जो अब घर बन गया है,
इसकी धड़कन मैं सुन सकता हूँ।


मेरा आँगन, मेरा बगीचा
साँस ही नहीं लेते,
मुस्कराते भी हैं।
मैं जब कई दिनों बाद लौटता हूँ
सबको उदास पाता हूँ।


मुझे देखते ही ये सब
बिखेरने लगते हैं मुस्कान
जो तैर जाती है
हर कोने में।
मुझे छू जाती है
इनकी सुगन्ध भरी साँस
दिलकश मुस्कान।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा
कविता
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
साहित्यिक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो