08-01-2019

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु मुक्तक - 2

रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

1.
बस्ती एक बसाई थी कल
वहाँ पर ढेरों फूल खिलाए।
आज पहुँचकर सन्नाटे में
आशाओं की पौध लगाएँ॥ 
2.
नहीं हम रहे रोशनी चुराने वाले
हम अँधेरों में दीपक जलाने वाले।
यही सूरज से सीखा, चाँद से जाना
सदा चमकते उजाला लुटाने वाले॥
 3.
तूफ़ानों में दीपक जलाते चलें
हर मुश्किल में हम गीत गाते चलें।
चलना जिसे साथ वह ख़ुशी से चले
हर दुखी को गले से लगाते चलें॥
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो