04-02-2019

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु मुक्तक - 1

रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

1.
अपनी परछाई भी कभी धोखा दे देती,
पर आँसू का साथ उम्र भर का होता है ।
हँसने के तो गीत विदूषक गा देते हैं,
किन्तु विछोह की आग सिर्फ़ हृदय ढोता है॥
2.
तुम्हारे इन्तज़ार में हम मज़ार बन बैठे
हो सके तो तुम कभी चिराग़ जलाते रहना ।
हमसे अगर नहीं है मुहब्बत अब भी तुमको
कसम है तुम्हें-यह राज़ किसी से न कहना॥
3.
कटती ज़िन्दगी कैसे बेचारा फूल क्या जाने 
गुज़रती दिल पर क्या-क्या यह तो ख़ार से पूछो ।
किनारों पर आकर भी कुछ तो डूब जाते हैं
जो डूबकर भी बच निकले मझधार से पूछो॥
4.
संकल्प जगें तो पर्वत भी हिल जाया करते हैं ।
टूट-टूट्कर शिखर धूल में मिल जाया करते हैं ।
मरुभूमि सहचरी बन सरिता हरियाली भरती
हथेली पर काँटों की फूल खिल जाया करते हैं॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो