रामेश्वर काम्बोज ’हिमांशु’ - 1

01-03-2019

रामेश्वर काम्बोज ’हिमांशु’ - 1

रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

दोहे

1.
जीवन में दुर्लभ रहा, मधुर, मिलन, संयोग।
वे दो पल को क्या मिले, मिला स्वर्ग का भोग॥

2.
मन- दर्पण था झील -सा,  निर्मल-पावन प्यार।
अँजुरी भर-भर कर पिया,तेरा यह उपहार॥

3.
इतनी विनती आज है,मेरे प्राणाधार।
रोम रोम में तुम रहो,बन साँसों का सार॥

4.
कौन कहाँ तक चल सका, कौन रहेगा दूर।
जीवन के दो घूँट को,कंठ हुआ मजबूर॥

5.
साँसों पर अब हर घड़ी, होता है प्रहार।
मरना ही आसान है, जीना अब दुश्वार॥

6.
बहुत हुआ अब तो चलो, नील गगन के पार।
यहाँ नफ़रत के साँप है, डँसने को तैयार॥

7.
हम पाखी थे डाल के,जड़ -चेतन से प्रीत।
लोग हमें समझे नहीं, जिनकी छल- बल रीत॥

8.
बाँचेगा कोई नहीं, आँसू भरी किताब।
अन्धे घेरे हैं तुम्हें,अन्धे उनके ख़्वाब॥

9.
दुनिया नदिया ताप की, डूबो, करलो पार।
अम्बर तक तैयार है, लेकर सब हथियार॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
साहित्यिक आलेख
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो