आओ सारे बच्चो आओ
एक-एककर सब जुड़ जाओ।
अब देखो अपनी रेल चली 
यह रेल चली है गली-गली॥   
     
रघुबीर बना इसका इंजन
बन गया गार्ड है कमलनयन।
नदियाँ-नाले–मैदान हरे
सब गाँव-शहर यह पार करे॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
साहित्यिक आलेख
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो