प्रेम परिधि

15-09-2020

प्रेम परिधि

आलोक कौशिक

बिंदु और रेखा में परस्पर आकर्षण हुआ 
तत्पश्चात् आकर्षण प्रेम में परिणत 
धीरे-धीरे रेखा की लंबाई बढ़ती गई 
और वह वृत्त में रूपांतरित हो गयी 
उसने अपनी परिधि में बिंदु को घेर लिया 
 
अब वह बिंदु उस वृत्त को ही 
संपूर्ण संसार समझने लगा 
क्योंकि उसकी दृष्टि 
प्रेम परिधि से परे देख पाने में 
असमर्थ हो गई थी 
 
कुछ समय बाद 
सहसा एक दिन 
वृत की परिधि टूटकर 
रेखा में रूपांतरित हो गई 
और वह बिंदु विलुप्त 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो