नन्ही चींटी

23-02-2019

कभी न थकती चलती रहती 
नन्ही चींटी।
गरमी से घबराना कैसा
सरदी में रुक जाना कैसा
भूख-प्यास सब कुछ है सहती
नन्हीं चींटी।
सीखो सदा प्रेम से रहना 
हँसकर दुख सुख सारे सहना
‘मेहनत करके जियो’ -कहती 
नन्हीं चींटी।
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
साहित्यिक आलेख
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो