नाचे बिजली गाते घन

01-07-2020

नाचे बिजली गाते घन

रामदयाल रोहज

नरमी सूरज की आँखों में
है बन्दी घटा- शलाखों में
रफ़्तार खगों की पाँखों में
थिरकन मुर्झाई शाखों में


थाप लगी है ढोलक पर
रंगमंच बन गया गगन
नाचे बिजली गाते घन


स्वर्ण सुन्दरी कमर लचीली
चमक इशारे आँख नशीली
नचा रही घन साथ हठीली
सृजन की बरसात रसीली


टूट रहे घुँघरू पायल के
धरती पर छन - छन
नाचे बिजली गाते घन


अभिनन्दन को शीश उठाए
नव पौधे लघु ताल बजाए
ऊँचे टीले मल मल नहाए
आलिंगन को बाहँ फैलाए


शिखी ज़ोर लगाकर बोला
गूँज उठा कानन
नाचे बिजली गाते घन


कृषक दर्शक बन देख रहे
दिल से करते तारीफ़ रहे
नद्य नाले नृत्य सीख रहे
झिंगुर ज़ोरों से चीख़ रहे


ज्वर उतरता धरती का
आनन्दित है कण कण
नाचे बिजली गाते घन

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें