मुर्गा बोला ­ कुकुड़ू कूँ
जाग उठा, सोता तू।
सूरज भी अब जाग गया
दूर अँधेरा भाग गया।
बिस्तर छोड़ो उठ जाओ
मुँह धोकर बाहर आओ।
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा
कविता
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
साहित्यिक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो