कभी इधर तो कभी उधर को
चलते जाते मोटूराम।
मोटर वाला भी चकराया
कहाँ जा रहे मोटूराम।
बीच सड़क में घबरा करके
गिरे अचानक मोटूराम।
चोट लगी घुटनों पर भारी
उठते कैसे मोटूराम।
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
गीत
लघुकथा
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो