कभी इधर तो कभी उधर को
चलते जाते मोटूराम।
मोटर वाला भी चकराया
कहाँ जा रहे मोटूराम।
बीच सड़क में घबरा करके
गिरे अचानक मोटूराम।
चोट लगी घुटनों पर भारी
उठते कैसे मोटूराम।
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
साहित्यिक आलेख
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो