मैं बहुत खुश हूँ
मेरे मौला; क्योंकि-
मेरे पास धन नहीं;
जिसको रखने के लिए
तिज़ौरी खरीदूँ,
रातों की नींद लुटाकर
पहरा दूँ,
जिसके लुट जाने पर
शोक मनाऊँ
आँसू बहाऊँ।


मैं बहुत खुश हूँ
मेरे मौला; क्योंकि-
मेरे पास वह
अहंकार नहीं है,
जिसे ढोने के लिए
गाड़ी खरीदनी पड़े।
जिस पर खड़े होकर
यह प्यार भरी दुनिया
बौनी दिखाई दे
और मैं खुद को महान्
समझने की हिमाकत कर सकूँ।


मैं बहुत खुश हूँ 
मेरे मौला; क्योंकि-
मेरे ज़ेहन में सिर्फ़
तेरा अहसास है,
जो मुझसे कहता है-
रहो इस दुनिया में
इस तरह,
जैसे कोई रहता हो दुनिया में 
अजनबी की तरह ।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा
कविता
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
साहित्यिक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो