सींच–सींचकर हर पौधे को 
हरा-भरा करता है माली
रंग-बिरंगे फूलों से नित
बगिया को भरता है माली
हर पौधे से और पेड़ से
बगिया में होती हरियाली।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
गीत-नवगीत
लघुकथा
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो