मेरी भोली गुड़िया रानी
सुनती मुझसे रोज़ कहानी।
आँखें नीली सुन्दर बाल
परियों जैसी इसकी चाल।
बढ़िया जूते, कपड़े पहने
मेरी गुड़िया के क्या कहने

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो