चाँद का जादू

01-07-2019

चाँद का जादू

रामदयाल रोहज

आकाश का विशाल दंगल
अनगिनत तारों के दर्शक करते
बेसब्री से प्रतिक्षा 
उस जग जादूगर की
बच्चे प्रफुल्लित 
उल्काओं से दौड़ते 
खेल रहे है इधर उधर
तभी सिर पर 
श्यामस्वर्ण रूमाल बाँधे
उस महाजादूगर का 
दंगल में प्रवेश 
तालियों से ज़ोरदार स्वागत
डमरु की डम डम से
ध्वनिमय हो उठा 
समूचा चराचर संसार
शुरू हुआ जादू का खेल 
अपनी संगीनी 
रजनी की काली साड़ी को
पलक झपकते ही बना दिया
दुग्ध धवल अतिसुन्दर
मात्र एक मुस्कान से 
कुमुदनियों पर डाला जादू
जैसे श्रीकृष्ण ने गोपियों पर
बूढ़े समुद्र में भी 
उत्पन्न कर दिया ज्वार
जो रोमांचित होकर निहार रहा है
आदिमित्र चकोर अचंभित सा 
देख रहा है अपलक
अचानक किसी ने कहा
ओह ! जादूगर की 
देह हो रही है छोटी
धीरे धीरे वह सींकिया 
शरीर का हो गया
फिर बिल्कुल ग़ायब
तो खुले गगन के 
नीचे सोने वाला 
बालक बोला घबराया सा 
ओ! जादूगर लौट आओ 
मेरा मन फिर से बहलाओ।

0 Comments

Leave a Comment