चाँद-चकोर

02-12-2018

आकाश की आँखों में 
रातों का सूरमा 
सितारों की गलियों में 
गुज़रते रहे मेहमां 
मचलते हुए चाँद को 
कैसे दिखाए कोई शमा 
छुप छुपकर जब 
चाँद हो रहा है जवां 

चकोर को डर 
भोर न हो जाए 
चमकता मेरा चाँद 
कहीं खो न जाए 
मन बेचैन आँखें 
पथरा सी जाएँगी 
विरह मन की राहें 
रातें निहारती जाएँगी 

चकोर का यूँ बुदबुदाना 
चाँद को यूँ सुनाना 
ईद और पूनम पे 
बादलों में मत छुप जाना 

याद रखना बस 
इतना न तरसाना 
मेरे चाँद तुम ख़ुद 
चले आना 

0 Comments

Leave a Comment