बड़ा आदमी

01-03-2020

अगल बगल से गुज़र जाते हैं
बड़े लोग 
केवल धुँआ उड़ता है या धूल
सड़क किनारे खड़े रह जाते
पेड़ की तरह
धूल धूसरित लोग जैसे जंगली फूल
कोई रोता शिशु लिए माता
सायकिल पर जाता
ब्रेड वाला अख़बार वाला
या फिर ऊन वाला फेरी लगाता


बड़े लोग फिर भी रहते बेख़बर
कुछ नहीं असर
देखकर सब रहते बेअसर
जैसे दो हैं
दुनियाँ बड़ों और छोटों की


छोटे श्रम से बनाते
सुंदर बड़ों की दुनिया को
या फिर नहीं करते धुँए से काला
नहीं बुनते अपनी बड़ी 
और असरदार
कामनाओं का जाला
सिर्फ़ रोटी के जुगाड़ में
ठंड गर्मी 
कुछ नहीं लगती हाड़ में
उगले धुँए को अपने 
फेफड़ों में जगह देता
बड़ा आदमी फिर भी बड़ा
उसका रहना कहना 
सहना छोटों को 
सब बड़ा।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें