अक्कड़-बक्कड़

20-02-2019

अक्कड़-बक्कड़ बम्बे बो
आसमान में बादल सौ।
सौ बादल हैं प्यारे
रंग हैं जिनके न्यारे।

हर बादल की भेड़ें सौ
हर भेड़ के रंग हैं दो।
भेड़ें दौड़ लगाती हैं
नहीं पकड़ में आती हैं।

बादल थककर चूर हुआ
रोने को मज़बूर हुआ।
आँसू धरती पर आए
नन्हें पौधे हरषाए।
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
साहित्यिक आलेख
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो