अच्छा इंसान

01-02-2021

अच्छा इंसान

आलोक कौशिक

किसी देश का फ़ौजी हो 
या हो कहीं का किसान 
यह ज़रूरी नहीं है 
वह होगा अच्छा इंसान 
 
पेशे से नहीं बनती 
इंसान की परिभाषा 
हर पुष्प की नहीं होती 
एक जैसी अभिलाषा 
 
बेइमानों की जहान में  
मुश्किल है पहचान 
किंतु सत्य यह भी है 
सब नहीं एक समान 
 
इंसानियत जिसमें ज़िंदा 
जो संवेदनहीन नहीं 
नेक हो जिसकी नीयत 
है अच्छा इंसान वही 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में