वो जो एक दिवाना है

01-09-2019

वो जो एक दिवाना है

निर्मल सिद्धू

वो जो एक दिवाना है
दुनिया से बेगाना है

 

सब कुछ उसके हाथों में
फिर भी वो अन्जाना है

 

बातें यूँ लगती उसकी 
जैसे नया तराना है

 

क़िस्से कहता है ग़म के 
ख़ुशियों का अफ़साना है

 

जीवन सबका उसके बिन
ख़ाली ज्यों पैमाना है

 

दर्द भरी इस दुनिया में
वो ही एक ठिकाना है

 

'निर्मल' के वो संग रहे
बरसों का याराना है

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
कविता
ग़ज़ल
नवगीत
नज़्म
अनूदित कविता
लघुकथा
विडियो
ऑडियो