रिश्ते (हाइकु निर्मल सिद्धू)

01-10-2019

रिश्ते (हाइकु निर्मल सिद्धू)

निर्मल सिद्धू

वक़्त बदला
आसान नहीं रहा
रिश्ते निभाना


रिश्ते न टिकें
पड़ें जब दरारें
शक वो चीज़


ढूँढ़ना व्यर्थ
रिश्तों की गर्माहटें
सर्द आहों में


संदेह पर
बुनियाद रिश्तों की
नहीं टिकती


तमाम रिश्ते
बात करें जो सब
जुड़े रहते


हो प्रफुल्लित
कहीं जो जुड़ जाये
मन से रिश्ता


जहाँ भी देखा
एक जैसा ही देखा
रिश्ता, माँ तेरा


लील जाता है
अच्छे-भले सम्बन्ध
वक़्त निर्मोही


रिश्तों में सदा
ताज़गी बनी रहे
कुछ वो करो


टूटे न कभी
सम्बन्धों की ये डोर
मन जो मिलें


ज़्यादा ना चलें
मतलब के रिश्ते
चौकन्ने रहो

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
कविता
ग़ज़ल
नवगीत
नज़्म
अनूदित कविता
लघुकथा
विडियो
ऑडियो