मुमकिन ही नहीं

15-01-2020

दिल के हर ज़र्रे में बसा है
वो नाम. . .
जिसके होने से हर अँधेरा,
गुम हो जाता था।
उसकी मासूमियत में छुपे जाने
कितने राज़? कितने क़िस्से? कितनी यादें?
और ना जाने कितने सपने?
जिनको बुनते अर्से बीत गये. . .


बयां नहीं होते वो अल्फ़ाज़
जो कहे थे एक दूजे से उन गलियों में,
जिन्हें अब बदनाम कहते हैं।
ख़ुद से भी ख़फ़ा कोई ख़बर नहीं है मुझे. . .
अफ़ीम के नशे की तरह था
मेरा इश्क़. . .
मेरा जुनून. . .जाने कैसे टूट गया?


लेकिन....
वो वक़्त अब नहीं रहा,
जिसे दोबारा से जी सकूँ. . .
उस नाम को फिर से पुकार सकूँ।
सर अपना तेरे काँधे पर रख कर,
इक दफ़ा फिर मुस्कुरा सकूँ. . ..


दीये की तरह रातों में,
जलता रहता हूँ....
ढूँढ़ता हूँ कुछ टूटे हुये ख़्वाबों को,
जो मुमकिन ही नहीं...
फिर क्यूँ दीवानों की तरह,
आज भी तेरा इन्तज़ार रहता है
जो मुमकिन ही नहीं....

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें