मुझको हिंदुस्तान दिखता है 

15-01-2021

मुझको हिंदुस्तान दिखता है 

अजय अमिताभ 'सुमन'

ना दिल्ली कभी, ना राजस्थान दिखता है,
मैं अंधा हूँ मुझको पूरा हिन्दुतान दिखता है।
तेरी नज़रों की कारीगरी ये हिंदू वो मुसलमान,
मैं अनाड़ी ही सही सब में इंसान दिखता है।
 
इस नफ़रतों की दौड़ ने काफ़िर बना दिया,
वगरना तो पत्थरों में भगवान दिखता है।
भूख की ख़ातिर ही गिरवी रखा ज़मीर को,
उसकी मजबूरी में भी ईमान दिखता है।
 
सज़ा तो मैं भी देता उस क़ातिल को यक़ीनन,
मुश्किल कि उसमें ख़ुद का शैतान दिखता है।
जन्नत की सारी दौलतें ये शोहरतें किस काम की,
"अमिताभ" ख़ुद से ही पूरा अनजान दिखता है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें