होली २०२०

15-03-2020

होली २०२०

निर्मल सिद्धू

उड़े गुलाल
मन हुआ रंगीन
यारों के संग


प्रेम की भंग
इतनी पीयें आज
नशा ना टूटे


रूठे यार को
होली हँस के बोली
मना लो आज


इक दूजे के
रंग में रँग जायें
होली खेलें यूँ


भाती है तभी
होली की हुड़दंग
सारे हों साथ


होली का मौक़ा
जोशीला व रंगीला
मार लें चौका


होली का पर्व
बसंती उपहार
मचायें धूम


अपनी होली
अपने हैं जो साथ
तभी है होली


दूर कीजिये
चिन्ता, क्रोध, तनाव
पैग़ामे होली


आओ जलायें
वैर, विरोध, इर्षा
होली में आज

 

चल पड़ी है
फागुन की लहर
गली-गली में


रंगों का मेला
पकवानों का स्वाद
वाह जी वाह


नशा है घुला
मन की नदिया में
मिल लो गले  ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
नज़्म
कविता - हाइकु
ग़ज़ल
नवगीत
अनूदित कविता
लघुकथा
विडियो
ऑडियो