सब जानता हूँ मैं
और सब कुछ मानता भी हूँ
परन्तु
मेरी भी कुछ मजबूरियाँ हैं
मेरे भी कुछ दायित्व हैं
जिन्हें मैं नकार नहीं सकता,
इसलिये तुम
अपने अहम के कठोर दायरे में
या
अपने व्यक्तित्व के सुनहरे महल में
हो सके तो
कोई एक राह खुली रख लेना,
अथवा, 
कोई एक खिड़की खुली छोड़ देना
जहाँ से मैं, हवा में तैर कर
तुम्हारे भीतर आ सकूँ,
तुम्हे याद आ सकूँ
तुम्हारे क़रीब रह सकूँ
तुमसे बतिया सकूँ,
तुम्हारी हृदय बाँसुरी पर
कोई नई धुन बना सकूँ,
तुम्हारे ख़ामोश लबों पर
कोई नवगीत ही गा सकूँ,
बस, तुम एक राह खुली रख लेना
कोई एक खिड़की खुली छोड़ देना,
मेरा क्या है,
मैं तो आ ही जाऊँगा, मैं तो आ ही जाऊँगा
मैं तो आ ही जाऊँगा.....

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
कविता
ग़ज़ल
नवगीत
नज़्म
अनूदित कविता
लघुकथा
विडियो
ऑडियो