अपनी भाषा

01-10-2019

अपनी भाषा

निर्मल सिद्धू

अपनी भाषा
आत्म ज्ञान का स्रोत
गले लगायें

 

चाहते हम
ज़ुबां-ज़ुबां पे हिन्दी
पर हो कैसे

 

भूलेंगे जब
अपने मतभेद
फैलेगी हिन्दी

 

ध्वज हिन्दी का
ऊँचा रहे हमेशा
यत्न करें जो

 

होगी हर सू
हिन्दी की जयकार
सीखें जो बच्चे

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
कविता
ग़ज़ल
नवगीत
नज़्म
अनूदित कविता
लघुकथा
विडियो
ऑडियो