सुनो! कबीर

01-01-2020

सुनो कबीर 
बचाकर रखना 
अपनी पोथी।

 

सरल नहीं 
गंगा के तट पर
बातें कहना,

 

घड़ियालों ने 
मानव बनकर 
सीखा रहना,

 

हित की बात 
ज़हर सी लगती 
लगती थोथी।

 

बाहर कुछ 
अन्दर से कुछ हैं 
दुनिया वाले,

 

उजले लोग,
मखमली कपड़े,
दिल हैं काले,  

 

सब ने रखी
ताक़ पर जाकर 
गरिमा जो थी।
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य कहानी
कविता - हाइकु
दोहे
कविता-मुक्तक
विडियो
ऑडियो