रोटी कहाँ छुपाई

01-08-2021

रोटी कहाँ छुपाई

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

लगे देखने  टेलीवीज़न,
चूहे घर के सारे।
देख रोटियाँ परदे पर,
उछले ख़ुशियों के मारे।
 
सोच रहे थे एक झपट्टे,
में रोटी लें बीन।
लेकिन बिजली बंद हुई तो,
रोटी हुई विलीन।
 
लिए कई फेरे टीवी के,
बड़ा ग़ज़ब है भाई।
बिजली बंद हुई, टीवी ने
रोटी कहाँ छुपाई?

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य कविता
किशोर साहित्य कहानी
बाल साहित्य नाटक
बाल साहित्य कहानी
कविता
लघुकथा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में