अब नहीं है
इस पेड़ पर
पंछियों का बसेरा
साँप बनाकर ले गया है
उन्हें कोई आस्तीनों का सपेरा
और पता दे गया है
बाँबियों का
यह कह कर कि
मौक़े बेमौक़े
पत्र ज़रूर लिखना।
या उजाले की जयंती।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य नाटक
बाल साहित्य कहानी
कविता
लघुकथा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो