करतूत राम की

01-10-2019

यह देखो करतूत राम की
यह देखो करतूत।

 

किया कबाड़ा सारा बिस्तर,
ही गीला कर डाला।
चड्डी पूरी हो गई गीली,
गीला हुआ दुशाला।
तकिया भी न रही काम की।

 

हमें उठालो चड्डी बदलो,
माँ को किए इशारे।
लगी ज़ोर से, मजबूरी थी,
कर दी सुबह सकारे।
हुई ज़रूरत, अब हमाम की।

 

माँ ने तकिए चादर बिस्तर,
दर्जन भर बनवाए।
मजबूरी के पल आयें तो,
कमी नहीं पड़ जाए।
चड्डी हैं "सौ" राम नाम की।

 

यह देखो करतूत राम की,
यह देखो करतूत।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य नाटक
बाल साहित्य कहानी
कविता
लघुकथा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो