सूरज के ज़ुल्म से
घबराकर
पेड़ के नीचे
छुपी सिकुड़ी
सिमटी छाया ने कहा

यह मुआ पेड़
बीच में आ गया
अन्यथा मज़ा चखाती
उस दुष्ट सूरज को।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
बाल साहित्य नाटक
बाल साहित्य कहानी
कविता
लघुकथा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो

A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: