कछुआ भैया थे कतार में,
थी कतार यह लंबी।
समय काटना था तो सिर में,
लगे फेरने कंघी।

किसी तरह भी दस घंटे में,
रुपये निकला पाए।
बैंक छोड़कर बाहर आये,
बिलकुल न झल्लाये।

बोले काले धन को कैसे,
भी बाहर लाना है।
आज हो रही दिक़्क़त पर अब,
अच्छे दिन आना है।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य नाटक
बाल साहित्य कहानी
कविता
लघुकथा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो