मेरे लिए ईमां आसां

01-06-2020

मेरे लिए ईमां आसां

महेशचन्द्र द्विवेदी

शबनमी बूँद का कमल के पत्ते पर ठहरना मुश्किल
हवा में एक सिहरन हुई और बूँद का गिरना आसां  

 

ताल की जलकुम्भी से मवेशी का निकलना मुश्किल
हरी घास की कशिश में,  होता उसका फँसना आसां

 

साँसें उनकी बख़्शीश उन्हें बताना जितना मुश्किल
उन्हें मुँह चुराते हुए उस पर हँसना उतना आसां

 

जुदाई का इक लम्हां बिताना मुझको जितना मुश्किल
सब्र का हर इम्तिहां लेना  उनके लिए उतना आसां

 

जो उनके लिए कुफ़्र आसां, तो मेरे लिए ईमां आसां
तर्केइबादत मुझे मुश्किल, तर्केमुहब्बत है उनको आसां 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कविता
कहानी
बाल साहित्य कहानी
व्यक्ति चित्र
पुस्तक समीक्षा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो