इज़्ज़त का फ़ालूदा

01-09-2020

इज़्ज़त का फ़ालूदा

महेशचन्द्र द्विवेदी

“रहिमन पानी राखिये, बिन पानी सब सून
पानी बिना न ऊबरे,  मोती,  मानुस,  चून।”

यहाँ मानुस के संदर्भ में ‘पानी’ शब्द से रहीम का आशय इज़्ज़त से है। पर हम ‘पानी’ रखें कैसे? कभी-कभी हम बिना कारण के अपनी इज़्ज़त का फ़ालूदा बन जाना मानकर दुखी हो जाते हैं और कभी बिना कारण दूसरों की इज़्ज़त का फ़ालूदा बना देते हैं। हमने स्वयं अपनी इज़्ज़त को इतना छोटा मान रखा है कि हमें इज़्ज़त चली जाने का ख़तरा सदैव लगा रहता है। दूसरे हमने अपने मन में इज़्ज़त चली जाने के इतने कारण मान रखे हैं कि ज़रा सी ऊँच-नीच होते ही इज़्ज़त खिसकती लगने लगती है।

जहाँ तक इज़्ज़त के आने की बात है, तो यह कुछ विरासत में  मिलती है और कुछ कमाई जाती है। विरासती इज़्ज़त पूर्वजों के द्वारा आप के लिये छोड़ी ज़मीन-जायदाद एवं यश के अनुपात में मिलती है। कमाई हुई इज़्ज़त आप द्वारा अर्जित पैसा, पद और प्रतिष्ठा पर निर्भर करती है। यह ज़रूरी नहीं होता है कि ये सत्यनिष्ठा से कमाये जायें। इनको कमाने में बेईमानी और फ़रेब का इस्तेमाल तब तक स्वीकार्य माना जाता है,  जब तक ऐसा करते हुए आप पकड़े न जायें।    

हमने इज़्ज़त गँवाने के अनेक और अनोखे रास्ते बना रखे हैं। यह आवश्यक नहीं है कि इज़्ज़त गँवाने वाले का उसमें कोई योगदान, संलिप्तता या दोष हो। अधिकांश प्रकरणों में इज़्ज़त केवल निर्बल की ही जाती है, चाहे वह स्वयं पीड़ित पक्ष हो। 

इज़्ज़त का परिमाण भी होता है जिसे इंगित करने के लिये हमने अनेक प्रकार के मुहावरे बना रखे हैं। थोड़ी सी इज़्ज़त चली जाने से लेकर पूरी इज़्ज़त चली जाने के क्रम को कतिपय मुहावरों द्वारा अभिव्यक्त किया जाता है–

  1. हेठी हो जाना– यदि नेता के भाषण में बोला गया सफ़ेद झूठ उजागर हो जाय, तो नेता की हेठी हो जाती है। परंतु नेता यदि चतुर हुआ, तो उससे बड़ा झूठ बोलकर उस हेठी को विपक्ष पर उलट देता है

  2. इज़्ज़त पर बट्टा लगना– यदि दुकानदार घी में चर्बी मिलाकर बेचता हुआ पकड़ा जाय, तो उसकी इज़्ज़त पर बट्टा लग जाता है। यदि वह पकड़ने वाले इंस्पेक्टर को येन-केन–प्रकारेण मना कर छूट जाये, तो यह बट्टा ऐसे छूट जाता है जैसे घड़ी डिटर्जेंट से ज़िद्दी दाग़।    

  3. दो टके की हो जाना– यदि किसी धनी व्यक्ति के बेटे के विवाह में उसके स्तर से कम दहेज़ मिले, तो उसकी इज़्ज़त दो टके की हो जाती है। इसलिये अपनी इज़्ज़त के प्रति सतर्क लड़के वाले दहेज़ का प्रदर्शन करते समय उसमें अपनी ओर से धन-सम्पत्ति मिला देते हैं। 

  4. पगड़ी उछल जाना– यदि किसी व्यक्ति की समाज में प्रतिष्ठा हो, और कोई   गुंडा उसके सरेआम दो जूते मार दे,  तो उसकी पगड़ी उछल जाती है। दूसरी ओर उस गुंडे का रुतबा जनसामान्य में बढ़ जाता है। 

  5. नाक कट जाना– यदि थानेदार का लड़का चपरासी का काम कर जीविकोपार्जन करे, तो थानेदार की नाक कट जाती है। यदि थानेदार और चोरों के बीच दलाली करे, तो नाक ऊँची हो जाती है। 

  6. इज़्ज़त लुट जाना– यदि किसी की लड़की अपने होनहार विजातीय प्रेमी के साथ भाग कर विवाह कर ले, तो उसकी इज़्ज़त लुट जाती है। यदि घर वालों के मन माफ़िक नालायक़ लड़के से विवाह कर ले तो इज़्ज़त ही इज़्ज़त है।  

  7. इज़्ज़त पर डाका पड़ जाना– यदि किसी लड़की के साथ बलात्कार हो जाय, तो उस लड़की की (बलात्कारी की नहीं) इज़्ज़त पर डाका पड़ जाता है। इंद्र द्वारा वेष बदलकर अहिल्या के साथ दुष्कर्म करने पर अहिल्या को पत्थर बनना पड़ता है और इंद्र मूँछों पर ताव देकर स्वर्गाधीश बने रहते हैं।

अपनी वक्र सोच के कारण हम इज़्ज़त के हक़दारों की इज़्ज़त का फ़ालूदा बनाते रहते हैं? और ग़ैर-इज़्ज़तदारों को आसमान पर चढ़ाये रहते हैं।   

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
सामाजिक आलेख
कविता
कहानी
बाल साहित्य कहानी
व्यक्ति चित्र
पुस्तक समीक्षा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में