डेंगू से डेंगी

03-06-2012

डेंगू से डेंगी

महेशचन्द्र द्विवेदी

डाक्टरों ने जब से डेंगू का
नाम डेंगी कर दिया है,
मेरी धर्मपत्नी के दिल में
एक नया डर भर दिया है।
 
पहले भी डेंगू शब्द सुनकर
उसका दिल घबरा जाता था,
उसे वह हो-ची-मिन्ह व
माउत्जे-डुंग की याद दिलाता था।
 
पर जब तक वह डेंगू के
मच्छर को पुल्लिंग समझती रही,
कम से कम मुझको उसके
काटने से सुरक्षित समझती रही।
 
अब डाक्टरों ने डेंगी नाम
देकर स्त्रीलिंग घोषित कर दिया है,
’मुझसे जरूर चिपेगी‘ इस
चिंता से उसका चैन हर लिया है।


0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कहानी
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
बाल साहित्य कहानी
व्यक्ति चित्र
पुस्तक समीक्षा
आप-बीती
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो