ज़िंदगी 

01-07-2019

जिस शिद्दत से देखते हो 
तुम मेरा चेहरा, 
काश ! ज़िंदगी भी 
उतनी ही कशिश-भरी होती!

0 Comments

Leave a Comment