तुम आए स्वप्न जैसे 
इससे पहले कि यक़ीं होता 
दुनिया की हक़ीक़त ने 
नींद से जगा दिया 
और मैं कभी तुम्हें खोज रही थी 
कभी देख रही थी- दीवारें। 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें