स्पर्श (डॉ. कविता भट्ट)

01-03-2020

स्पर्श (डॉ. कविता भट्ट)

डॉ. कविता भट्ट

विरहन के विरह-सा
दूषित-व्यथित पर्यावरण
चाहता है स्पर्श-
प्रेमी के समान
प्रेम में शर्त नहीं होती
यह तो देता है- जीवन
जैसे वृक्ष देते छाँव-हवा
नदी गाती है प्रवाह के सुर में
प्यास बुझाने वाले गीत
बिन किसी अनुबंध ही।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें