फिर मिलेंगे!

18-07-2014

फिर मिलेंगे!

अशोक परुथी 'मतवाला'

ख़ुदा, बचाये,
आजकल के ट्रकों से, 
जो टक्कर 
मारकर, 
सिर फाड़ कर, 
कहते निकल जाते हैं- 
फिर मिलेंगे!

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कहानी
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
सांस्कृतिक कथा
विडियो
ऑडियो