पत्थर होती अहल्या 

15-02-2020

पत्थर होती अहल्या 

डॉ. कविता भट्ट

मदमस्त इंद्र 
गौतम भी वैसा ही सशंकित क्रुद्ध
किन्तु, राम हो गया तटस्थ द्रष्टा
संभवतः ; स्पर्श करना भूल गया है
इसीलिए शिलाएँ अब
पुनः अहल्या नहीं बन पाती
टूटती-पिसती हैं
हो जाती हैं -धूल।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें