मृगतृष्णा

01-11-2019

मृगतृष्णा

डॉ. कविता भट्ट

प्रिय-वियोग के पतझर में- 
जीवन-वृक्ष से निरंतर 
पत्तों-सी झरती रही 
आशा और प्रतीक्षा 
प्रेम-वसंत की मृगतृष्णा में।
 

0 Comments

Leave a Comment