कामनाएँ 

01-03-2020

कामनाएँ 

डॉ. कविता भट्ट

लहलहाती फ़सल -सी 
कामनाएँ उसकी
ओलावृष्टि -सी युग दृष्टि
विवश कृषक- सी वह
फिर भी चुनती 
ओलों को मोती- सा

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें